बस्ती बस्ती घोर उदासी (Hindi) - Poem by Rajnish Manga

बस्ती बस्ती घोर उदासी और पर्वत पर्वत खालीपन
मन का हीरा बिका कोड़ियों नीलाम हुआ तन का चंदन
इस धरती से उस अम्बर तक दो ही चीज़ अनोखी हैं,
एक तो तेरा अति भोलापन एक मेरा दीवानापन.

Add Comment