Best Poem of Yaas Yagana Changezi

शमा गुल हो गयी दिल बुझ गया परवाने का
सिलसिला छिड़ गया जब यास के फ़साने का
शमा गुल हो गयी दिल बुझ गया परवाने का

वाए हसरत कि ताल्लुक़ न हुआ दिल को कहीं
न तो काबे का हुआ मैं न तो सनम-खाने का

खिल्वत-ए-नाज़ कुजा और कुजा अहल-ए-हवस
ज़ोर क्या चल सके फ़ानूस से परवाने का

वाह किस नाज़ से आता है तेरा दौर-ए-शबाब
जिस तरह दौर चले बज़्म में परवाने का
. . .
Read the full of शमा गुल हो गयी दिल बुझ गया परवाने का
ujhe dil kii Khataa par 'Yaas' sharmaanaa nahii.n aataa
mujhe dil kii Khataa par 'Yaas' sharmaanaa nahii.n aataa
paraayaa jurm apane naam likhavaanaa nahii.n aataa

buraa ho paa-e-sar_kash kaa ki thak jaanaa nahii.n aataa
kabhii gum_raah ho kar raah par aanaa nahii.n aataa

mujhe ai naaKhudaa aaKhir kisii ko muu.Nh dikhaanaa hai
bahaanaa kar ke tanhaa paar . . .
Read the full of ujhe dil kii Khataa par 'Yaas' sharmaanaa nahii.n aataa